बिहार में होगा सियासी खेला? दिन, तारीख और समय तय, नीतीश-तेजस्वी अलग-अलग करेंगे बैठक

पटना: कल तक कहा जाता था कि बिहार में सब ठीक है। आज भी कह सकते हैं कि सब ठीक ही है, लेकिन सियासी तौर पर देखा जाए तो कुछ भी ठीक नहीं है। आरसीपी सिह के जेडीयू से इस्तीफे के बाद बिहार में राजनीतिक घमासान मचा हुआ है। पक्ष और विपक्ष, दोनों ने विधानमंडल दल की बैठक बुलाई है। हालांकि बैठक बुलाने वाले में जेडीयू और आरजेडी ही है। खबर तो ये भी है कि इन दोनों दलों से पहले जीतनराम मांझी भी बैठक करने वाले हैं। जीतनराम मांझी ने सोमवार को बैठक बुलाया है, जबकि जेडीयू और आरजेडी, मंगलवार ( 9 अगस्त ) को बैठक करेगी।

खबरों की माने तो जेडीयू ने अपने सभी विधायकों और सांसदों को सोमवार शाम तक पटना आने के लिए कह दिया है। इस बैठक में जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह भी मौजूद रहेंगे। हालांकि अभी तक ये नहीं बताया गया है कि इस बैठक का मुद्दा क्या है। माना जा रहा है कि इस बैठक में बीजेपी के साथ गठबंधन के भविष्य को लेकर चर्चा हो सकती है।

कल किसने देखा है
रविवार को जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह पहली बार आरसीपी के इस्तीफे के बाद पटना में पत्रकारों से बात की। जब उनके पूछा गया है कि अमित शाह ने कहा है कि 2024 आम चुनाव और 2025 बिहार विधानसभा चुनाव गठबंधन में लड़ा जाएगा। इस सवाल के जवाब में ललन सिंह ने कहा कि कल किसने देखा है। हालांकि उन्होंने गठबंधन से इनकार भी नहीं किया है।

9 अगस्त को आरजेडी-जेडीयू विधानमंडल दल की बैठक
इधर, ललन सिंह प्रेस कॉन्फ्रेस कर रहे थे। उधर खबर आयी है कि 9 अगस्त मंगलवार को जेडीयू और आरजेडी ने विधानमंडल दल की बैठक बुलाई है। संयोग है या कुछ और, एक ही दिन दोनों पार्टियों ने बैठक बुलाई है। हालांकि किसी ने बैठक का विषय नहीं बताया है, लेकिन जानकार कहते हैं कि मंगलवार को बिहार में सियासी तौर पर कुछ बड़ा होने वाला है। दोनों दलों को एक दिन बैठक बुलाना कतई संयोग नहीं हो सकता।

तो टूट जाएगा गठबंधन?
आरसीपी के इस्तीफे के बाद जिस तरह से सियासी घमासान मचा हुआ है, उससे तो साफ बीजेपी-जेडीयू में कुछ भी ठीक नहीं है। रविवार को जिस तरह ललन सिंह ने आरसीपी को आगे रखकर बीजेपी का नाम लिए बिना हमला बोला है, उससे साफ है कि मंगलवार को कुछ बड़ा होगा।

Source NBT

अपनी राय दें