Moskva Video: काला सागर में पहली बार धू-धूकर जलता दिखा रूस का मोस्‍कवा युद्धपोत, यूक्रेनी मिसाइलों का बना था शिकार!

मॉस्को : रूस और यूक्रेन के बीच 50 से अधिक दिनों से जंग जारी है और अब साफ हो गया है कि यह लड़ाई एकतरफा नहीं है। अगर रूस ने यूक्रेन के प्रमुख शहरों में तबाही मचाई है तो यूक्रेन ने भी पुतिन की सेना को करारा जवाब दिया है। हाल ही में रूसी नौसेना का स्‍लावा क्‍लास का क्रूजर मोस्‍कवा काला सागर में डूब गया था। इसके बाद से क्षतिग्रस्त युद्धपोत की तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से शेयर हो रही हैं। हालांकि इन तस्वीरों की पुष्टि नहीं हो पाई है लेकिन ये जलते हुए रूसी युद्धपोत का दावा करती हैं।

यूक्रेन के अधिकारियों का कहना है कि उनकी सेनाओं ने जहाज पर मिसाइलों से हमला किया था। वहीं रूस ने मोस्‍कवा पर आग लगने की बात को स्वीकार करते हुए हमले के दावों को खारिज किया है। अमेरिका और पश्चिमी देशों ने भी आग लगने के स्पष्ट कारणों की पुष्टि नहीं की है। इस युद्धपोत का नाम रूस की राजधानी के नाम पर रखा गया था। 1147 में जब मॉस्को शहर बसा तो इसका असली नाम ‘मोस्‍कवा’ था।

जेलेंस्की बोले- 50 दिनों तक डटे रहने पर गर्व
एक छोटे से वीडियो में एक युद्धपोत जलता हुए नजर आ रहा है जिसके मोस्‍कवा होने का दावा किया जा रहा है। मोस्‍कवा का काला सागर में डूबना इस युद्ध में रूसी सेना के लिए बहुत बड़ा झटका है जो एक नए सिरे से हमले की तैयारी कर रही है। जहाज के डूबने के बाद यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की ने कहा कि यूक्रेन के लोगों को रूसी हमले के आगे 50 दिनों तक डटे रहने पर गर्व होना चाहिए।
Russia Mariupol Ultimatum: रूसी धमकी के आगे नहीं झुके मारियुपोल में डटे यूक्रेनी सैनिक, अंतिम सांस तक जंग की तैयारी
शीत युद्ध के दौरान पानी में उतरा था मोस्‍कवा
मोस्‍कवा युद्धपोत 12500 टन वजनी था और 600 फुट लंबा था जिसने शीत युद्ध के दौरान अपनी सेवाएं देना शुरू किया था। रूस ने पहले कहा था कि इस युद्धपोत के अंदर आग लग गई है और उसे तट पर लाने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन बाद में उसने पुष्टि की कि मोस्‍कवा युद्धपोत समुद्र में डूब गया है। बताया जा रहा है कि यह युद्धपोत काला सागर में किसी जगह तैनात था और यूक्रेन के ओडेसा पोर्ट के पास उसके अंदर विस्‍फोट हो गया।

Source NBT

अपनी राय दें