Karanataka में नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों के बीच CM येदियुरप्पा ने की विधायकों से अपील, सिग्नेचर कैंपेन में न हों शामिल


बेंगलुरु: कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा (BS yediyurappa) ने सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) के विधायकों से कहा है कि उन्हें बदले जाने की अटकलों के बारे में किसी भी सिग्नेचर कैंपेन में कोई विधायक शामिल न हो. साथ ही येदियुरप्पा ने कहा है कि कोई भी विधायक किसी भी तरह का राजनीतिक बयान जारी नहीं करे. 

‘क्षेत्र में कोविड प्रबंधन पर ध्यान दें’

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा (BS yediyurappa) ने BJP के विधायकों से कहा है कि इसके बजाय पार्टी के विधायक अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों में कोविड प्रबंधन पर ध्यान केन्द्रित करें और जरूरतमंदों की मदद करें. येदियुरप्पा ने कहा, ‘ऐसे समय में जब लोग कोविड महामारी के कारण संकट का सामना कर रहे हैं, भाजपा के प्रत्येक विधायक को अपने निर्वाचन क्षेत्रों में कोविड को नियंत्रित करने की दिशा में प्राथमिकता देनी चाहिए. मैं अपील करता हूं कि कोई भी किसी भी प्रकार के सिग्नेचर कैंपेन या राजनीतिक बयान में शामिल न हो, और संकट के समय में लोगों की मदद करे.’

65 से अधिक विधायकों का समर्थन

मुख्यमंत्री का यह बयान उन्हें बदले जाने के बारे में अटकलों को लेकर कई राजनीतिक बयानों के बाद आया है और उनके राजनीतिक सचिव एम पी रेणुकाचार्य द्वारा उनके पक्ष में 65 से अधिक विधायकों द्वारा सिग्नेचर किया हुआ एक पत्र होने का दावा किया गया है. इस बीच राजस्व मंत्री आर अशोक ने कहा कि राज्य भाजपा अध्यक्ष नलिन कुमार कटील ने नेतृत्व परिवर्तन पर नाराजगी और खुले तौर पर बयान देने से रोकने के लिए एक समिति का गठन किया है.

पार्टी नेतृत्व नाराज

येदियुरप्पा ने कहा कि पार्टी अध्यक्ष ने किसी भी तरह का सिग्नेचर कैंपेन नहीं चलाने का आदेश जारी किया है और इसमें शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी दी है. समिति में राज्य अध्यक्ष, मुख्यमंत्री, चार महासचिव, चार मंत्री शामिल हैं. अशोक ने कहा, ‘यह समिति भ्रम को दूर करने और खुले तौर पर दिये जाने वाले बयानों को रोकने के उद्देश्य से है. जिन लोगों को शिकायत है, वे समिति से संपर्क कर सकते हैं.’ उन्होंने कहा, ‘मुख्यमंत्री की स्थिति के बारे में या उन्हें बदलने के बारे में किसी को कुछ नहीं बोलना चाहिए. किसी को भी मुख्यमंत्री के पक्ष या विपक्ष में बयान नहीं देना चाहिए. यह प्रदेश अध्यक्ष और केंद्रीय नेतृत्व का निर्देश है.’

यह भी पढ़ें: Google पर फ्रांस ने ठोका 1953 करोड़ का जुर्माना, ‘पॉवर’ का गलत इस्तेमाल करने का आरोप

‘भाजपा आलाकमान को भरोसा’

नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों के बीच येदियुरप्पा ने रविवार को कहा था कि वह तब तक शीर्ष पद पर बने रहेंगे जब तक भाजपा आलाकमान को उन पर भरोसा है और उन्हें इस बारे में कोई भ्रम नहीं है. इससे पूर्व आज दिन में विधायक रेणुकाचार्य ने कहा कि उनके पास येदियुरप्पा के पक्ष में और उनके प्रति निष्ठा रखने वाले 65 से अधिक विधायकों द्वारा हस्ताक्षरित एक पत्र है, और वे चाहते हैं कि वह मुख्यमंत्री बने रहें. 

LIVE TV





Source Zee News

अपनी राय दें