कोरोना को मात: इस्राइल का टीकाकरण अभियान सफल, जानिए कैसे निकला दुनिया से आगे


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, तेल अवीव
Published by: Jeet Kumar
Updated Mon, 19 Apr 2021 12:40 AM IST

ख़बर सुनें

इस्राइल दुनिया का एक एकमात्र ऐसा देश है जो कोरोना टीकाकरण मामले में सबसे आगे है। कोरोना टीकाकरण में उसने सबसे पहले टीके को मंजूरी देने वाले ब्रिटेन व अमेरिका को पीछे छोड़ दिया है। दुनिया ये जानना चाहती है उसने इसमें सफलता कैसे प्राप्त की।

हगिट फिलो जो ऑडिट पार्टनर हैं उन्होंने बताया इस्राइल ने एक एप बनाया, उस एप से मैंने अपना क्लिनिक में टीके के लिए एक अपॉइंटमेंट बुक किया। उसके चुनने के बाद स्थान और समय की पुष्टि हो गई। इसके बाद क्लिनिक गई, वहां दरवाजे पर मेरा स्वास्थ्य कार्ड स्कैन किया गया। मुझे टीका प्राप्त हुआ। कोई वेटिंग लाइन नहीं थी। किसी ने कोई सवाल नहीं पूछा न कोई किसी तरह का फॉर्म भरा गया।

यह सबकुछ एप के माध्यम से हुआ, इसके बाद मुझे टीकाकरण आईडी मिल गई। मैं एप के माध्यम से अपॉइंटमेंट को अपडेट कर सकती थी। उन्होंने बताया कि एक बार जब मैंने पूरी तरह से टीका लगाया, टीकाकरण आईडी डिजिटल रूप से एक विशेष एप में लोड हो गई। जिसे हम “ग्रीन पास” प्राप्त करने के लिए उपयोग करते हैं।

इस ग्रीन पास का उपयोग सिनेमाघरों या सांस्कृतिक कार्यक्रमों जैसे सार्वजनिक स्थानों पर पहुंचने के लिए टीकाकरण के प्रमाण के रूप में उपयोग किया जा रहा है। मैं किसी भी समय अपने फोन का उपयोग करके दिखा सकती हूं, इसलिए कागजी प्रमाण पत्र या कार्ड के साथ जाने की कोई आवश्यकता नहीं है और मुझे विश्वास है कि मैं सुरक्षित हूं और मेरे आसपास के लोग भी। 

इस्राइल में लोगों को वैक्सीन लगाने के लिए डिजिटल माध्यम का सहारा लिया गया। लोग एप के माध्यम से अपॉइंटमेंट बुक कर सकते हैं। शर्तों के बारे में प्रश्न पूछ सकते हैं। प्रत्येक नागरिक के लिए पूर्ण डिजिटल रिकॉर्ड है, स्वास्थ्य रखरखाव संगठन और स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के लिए सुलभ है। इस सेवा प्रणाली को लोगों के लिए काफी सरल बनाया गया है।

इस्राइल दुनिया का एक एकमात्र ऐसा देश है जो कोरोना टीकाकरण मामले में सबसे आगे है। कोरोना टीकाकरण में उसने सबसे पहले टीके को मंजूरी देने वाले ब्रिटेन व अमेरिका को पीछे छोड़ दिया है। दुनिया ये जानना चाहती है उसने इसमें सफलता कैसे प्राप्त की।

हगिट फिलो जो ऑडिट पार्टनर हैं उन्होंने बताया इस्राइल ने एक एप बनाया, उस एप से मैंने अपना क्लिनिक में टीके के लिए एक अपॉइंटमेंट बुक किया। उसके चुनने के बाद स्थान और समय की पुष्टि हो गई। इसके बाद क्लिनिक गई, वहां दरवाजे पर मेरा स्वास्थ्य कार्ड स्कैन किया गया। मुझे टीका प्राप्त हुआ। कोई वेटिंग लाइन नहीं थी। किसी ने कोई सवाल नहीं पूछा न कोई किसी तरह का फॉर्म भरा गया।

यह सबकुछ एप के माध्यम से हुआ, इसके बाद मुझे टीकाकरण आईडी मिल गई। मैं एप के माध्यम से अपॉइंटमेंट को अपडेट कर सकती थी। उन्होंने बताया कि एक बार जब मैंने पूरी तरह से टीका लगाया, टीकाकरण आईडी डिजिटल रूप से एक विशेष एप में लोड हो गई। जिसे हम “ग्रीन पास” प्राप्त करने के लिए उपयोग करते हैं।

इस ग्रीन पास का उपयोग सिनेमाघरों या सांस्कृतिक कार्यक्रमों जैसे सार्वजनिक स्थानों पर पहुंचने के लिए टीकाकरण के प्रमाण के रूप में उपयोग किया जा रहा है। मैं किसी भी समय अपने फोन का उपयोग करके दिखा सकती हूं, इसलिए कागजी प्रमाण पत्र या कार्ड के साथ जाने की कोई आवश्यकता नहीं है और मुझे विश्वास है कि मैं सुरक्षित हूं और मेरे आसपास के लोग भी। 

इस्राइल में लोगों को वैक्सीन लगाने के लिए डिजिटल माध्यम का सहारा लिया गया। लोग एप के माध्यम से अपॉइंटमेंट बुक कर सकते हैं। शर्तों के बारे में प्रश्न पूछ सकते हैं। प्रत्येक नागरिक के लिए पूर्ण डिजिटल रिकॉर्ड है, स्वास्थ्य रखरखाव संगठन और स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के लिए सुलभ है। इस सेवा प्रणाली को लोगों के लिए काफी सरल बनाया गया है।



Source link

अपनी राय दें