Hathras Case: हाथरस की बिटिया का परिवार खौफजदा, छोड़ना चाहता है गांव

Hathras Case: हाथरस की बिटिया का परिवार खौफजदा, छोड़ना चाहता है गांव


हाइलाइट्स:

  • हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिवार की ओर से आया बड़ा बयान
  • गांव में आरोपी पक्ष की पंचायतों के चलते डरा हुआ है पीड़िता का परिवार
  • पर‍िवार का दावा, हम पर बनाया जा रहा दबाव, धमकियां भी मिल रही हैं

शादाब रिज़वी, मेरठ
हाथरस कांड को लेकर रोजाना नए घटनाक्रम के बीच पीड़िता के पर‍िवार का बड़ा बयान सामने आया है। गैंगरेप पीड़िता के परिवार ने कहा है क‍ि वह गांव छोड़ना चाहते हैं। उनकी माने तो आरोपी पक्ष की पंचायतों के चलते वो लोग डरे हुए हैं। उनका कहना है क‍ि हम पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है और धमकियां भी मिल रही हैं। इस बीच, बिटिया के घर-गांव की निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। साथ ही हर आने जाने वाले की पड़ताल के लिए मेटल डिटेक्टर भी लगाया है। घर के बाहर पुलिस का पहरा है।

दरअसल, घटना के बाद पीड़िता के घर लगातार नेताओं का आना-जाना लगा हुआ है। आरोपी पक्ष के लोग आने-वालों का विरोध कर रहे हैं। उनके खिलाफ नारे लगा रहे हैं। भीम आर्मी के चंद्रशेखर को धमकी दी जा चुकी है और आप सासंद पर स्याही फेंकने की घटना भी हो चुकी है। ऐसे में पीड़िता के परिजन खुद को असुरक्षित मान रहे हैं।

‘शहर में आवास दे सरकार’
पीड़िता के भाई का कहना है कि आरोपी पक्ष की ओर से की जा रही पंचायतों से उन्हें डर लग रहा है। ऐसे में गांव में रहना ठीक नहीं है। यदि सरकार उन्हें शहर में आवास दे देगी तब वह वहां जाकर रहने लगेंगे।

हाथरस मामले में यूपी सरकार बोली- जातीय हिंसा फ़ैलाने की साजिश हो रही थी

सुरक्षा को लगाए गए सीसीटीवी
उधर, परिजनों की तरफ से असुरक्षा की बात एसआईटी और सियासी दलों के सामने उठाने के बाद पुलिस ने सतर्कता बढ़ा दी है। पीड़िता के घर कौन आ और कौन जा रहा है, इस पर निगरानी रखने के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। उनकी देखरेख पुलिस कर रही है। ऐसा इसलिए किया गया है ताकि कोई बाहरी व्यक्ति साजिश के तहत कुछ गड़बड़ी न कर दे। 24 घटे में गांव में तैनात पुलिस फोर्स का अधिकारी सीसीटीवी के रेकॉर्ड को खंगालेगा और सीनियर अफसरों को उसकी रिपोर्ट देगा।

हर आने-जाने वाले पर नजर
पुलिस के मुताब‍िक, पीड़िता के घर के बाहर डेढ़ सेक्शन पीएसी सोमवार से ही तैनात है। हर आने-जाने वाले की चेकिंग के साथ रजिस्टर में एंट्री हो रही है। यह भी देखा जाएगा कि कौन कितनी बार आ-जा रहा है। घर के हर सदस्य की सुरक्षा के लिए दो-दो सिपाही 12-12 घंटे की ड्यूटी में लगाए गए हैं। गांव में एक सीओ, तीन इंस्पेक्टर, दो महिला दरोगा, 15 कांस्टेबिल, छह महिला कांस्टेबलों को लगाया गया है।

हाथरस कांड में अब 10 दिन बाद रिपोर्ट देगी एसआईटी

पीड़िता के भाई ने कहा- हमारे खिलाफ की जा रही साजिश
हाथरस केस में पीड़िता के भाई के मोबाइल और मुख्य आरोपी के मोबाइल से लगातार बातें होने की बात सामने आने, कॉल डिटेल को लेकर सवाल उठाने को युवती के भाई ने साजिश करार दिया है। उसका कहना है क‍ि मेरी बहन तो अनपढ़ सरीखी थी, अगर सबूत है तो रिकार्डिंग सामने लाएं।



Source NBT

अपनी राय दें