बिहार के बाद PM मोदी की उत्तराखंड को सौगात, आज करेंगे 6 बड़े प्रोजेक्ट का उद्याटन

बिहार के बाद PM मोदी की उत्तराखंड को सौगात, आज करेंगे 6 बड़े प्रोजेक्ट का उद्याटन


नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) बिहार के बाद अब उत्तराखंड के लोगों को दिवाली से पहले एक बड़ा तोहफा देने जा रहे हैं. दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार (29 सितंबर) को नमामि गंगे मिशन (Namami Gange Mission) के तहत 6 मेगा प्रोजेक्ट्स का उद्घाटन करेंगे. इनमें सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट शामिल हैं. कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी गंगा को समर्पित एक म्यूजियम (Ganga Avalokan) का भी लोकार्पण करेंगे. यह म्यूजियम हरिद्वार के गंगा किनारे चांदनी घाट पर स्थित है. 

इस संबंध में खुद पीएम मोदी ने अपने ट्विटर पेज पर जानकारी दी है. उन्होंने कहा, ‘इन परियोजनाओं की शुरुआत नमामि गंगे मिशन (Namami Gange) के लिए एक मील का पत्थर साबित होगा. उन्होंने कहा कि यह गर्व का विषय है कि राज्य में गंगा को प्रदूषण से मुक्ति दिलाने वाले सभी 30 प्रोजेक्ट्स अब पूरे हो चुके हैं.’

पीएम मोदी ने लिखा है, ‘विकास के पथ पर निरंतर अग्रसर देवभूमि उत्तराखंड के लिए कल का दिन बहुत महत्वपूर्ण है. सुबह 11 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए नमामि गंगे मिशन के तहत हरिद्वार, ऋषिकेश और बद्रीनाथ समेत कई शहरों की 6 बड़ी परियोजनाओं का उद्घाटन किया जाएगा.’

ये भी पढ़ें- भारत में कोरोना का ऑनलाइन पोर्टल लॉन्च, स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कब आएगी वैक्सीन

उत्तराखंड के सीवर प्लांट
1- उत्तराखंड के जगजीतपुर, हरिद्वार में 230.32 करोड़ रुपये की लागत के 68 मेगालीटर और 19.64 करोड़ रुपये की लागत के 27 एमएलडी एसटीपी बनाए गए हैं. 
2- सराय, हरिद्वार में 12.99 करोड़ की लागत के 18 एमएलडी एसटीपी बनकर तैयार हुआ है.  
3- चन्द्रेश्वर नगर, ऋषिकेश में 41.12 करोड़ की लागत से बना 7.50 एमएलडी एसटीपी.
4- लक्कड़घाट, ऋषिकेश में 158 करोड़ रुपये की लागत से बना26 एमएलडी एसटीपी.
5- बद्रीनाथ में 18.23 करोड़ रुपये से बने एक एमएलडी का ट्रीटमेंट प्लांट.
6- मुनी की रेती, टिहरी में 39.32 करोड़ रुपये लागत से 5 मेगालीटर का ट्रीटमेंट प्लांट बना है.

राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के डायरेक्टर जनरल राजीव रंजन मिश्रा ने बताया कि हरिद्वार, ऋषिकेश, मुनी की रेती और बद्रीनाथ में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का लोकापर्ण किया जाएगा. उत्तराखंड में जो नए सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट बने हैं, वे सभी अत्याधुनिक हैं. इनके जरिए सॉलिड वेस्ट को कम्पोस्ट के रूप में बदला जाएगा. 





Source Zee News

अपनी राय दें