न्यूयॉर्क में 24 घंटे में 731 लोगों की मौत, दुनिया में 75 हजार से ज्यादा जानें गईं

न्यूयॉर्क में 24 घंटे में  731 लोगों की मौत, दुनिया में 75 हजार से ज्यादा जानें गईं


NBT

न्यूयॉर्क

अमेरिका में कोरोना वायरस के केंद्र न्यूयॉर्क में 24 घंटों के दौरान 731 लोगों की मौत हो गई है। यह एक दिन में अमेरिका के किसी राज्य में कोरोना से सबसे अधिक मौत है। यहां हालत ऐसे हो गए हैं कि शवगृह में जगह कम पड़ने पर पार्क में अस्थायी रूप से शवों को दफन करने पर विचार किया जा रहा था। हालांकि, अब इस फैसले पर फिलहाल रोक लगा दी गई है। कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में मरने वालों की संख्या 75,500 हो गई है और इनमें से 50 हजार से अधिक मौतें यूरोप महादेश में हुई हैं।

न्यूयॉर्क में एक दिन में 731 मौतें, शव रखने को नहीं जगह

न्यूयॉर्क के गवर्नर एंड्रयू क्यूमो ने 731 लोगों के मौत की पुष्टि की है। उन्होंने कहा, ‘बुरी खबर यह है कि न्यूयॉर्क में 5,489 लोगों की मौत हो गई है। एक दिन पहले मौत का आंकड़ा 4,758 था इस लिहाज से एक दिन में मौत का यह सबसे बड़ा आंकड़ा है। जिन 731 लोगों को हमने खोया है। मरने वालों में एक व्यक्ति, एक परिवार, एक मां और पिता हैं।’ हालांकि राज्य के गवर्नर एंड्रयू कुओमो ने कहा कि यह लापरवाही का वक्त नहीं है। मेयर बिल डे ब्लासियो ने कहा, ‘न्यूयॉर्क शहर इससे लड़ रहा है। हमारा दुश्मन अदृश्य है। हमारा शत्रु क्रूर है लेकिन यह शहर लड़ रहा है।’

न्यूयॉर्क शहर के कब्रिस्तान के निदेशक पी मर्मो ने कहा कि कब्रिस्तान में सामान्य दोनों की तुलना में तीन गुना ज्यादा शव आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह 11 सितंबर 2001 के जैसा हाल लग रहा है। शवों को रखने के लिए शवगृह में जगह कम पड़ गया है और फैसला किया गया था कि अस्थायी रूप से पार्क में कब्र खोदी जाएगी। हालांकि, इस पर सहमति नहीं बन पाई और जरूरत पड़ने पर हार्टलैंड के पार्क में शवों को ले जाया जाएगा। अमेरिका में कोरोना वायरस से अब तक 11,850 लोगों की मौत हुई है।

कोरोना: अमेरिकी वैज्ञानिकों ने चेताया, ब्रिटेन में हो सकती हैं 66 हजार मौतें

ब्रिटेन में 66 हजार मौत का अनुमान

अमेरिका के वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने अनुमान जताया है कि ब्रिटेन में कोरोना वायरस से जुलाई तक 66 हजार लोगों की मौत हो सकती है। इसमें यह दावा भी किया गया है कि यहां इटली से तीन गुना ज्यादा मौत होगी जहां फिलहाल सबसे अधिक मौत हुई है। स्टडी में बताया गया है कि इटली में 20 हजार और स्पेन में 19 हजार लोगों की मौत हो सकती है। उधर, कोरोना वायरस से संक्रमित ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को मंगलवार को आईसीयू में भर्ती किया गया। जॉनसन के 10 दिन पहले संक्रमित होने कि पुष्टि हुई थी और जब उनकी हालत खराब हुई तो वह खुद आईसीयू में भर्ती होने चले गए। उनके प्रवक्ता ने कहा कि रात में उनकी हालत स्थिर थी।

वैज्ञानिकों ने चेताया, UK में होगी 66 हजार मौत



कैसा है बाकी यूरोप का हाल

स्पेन में मंगलवार को संक्रमण की वजह से 743 लोगों की मौत हुई। सोमवार को फ्रांस में 833 लोगों ने बीमारी की वजह से दम तोड़ा था। इटली में मृतकों की संख्या में फिर से बढ़ोतरी हुई है। स्वीडन में 114 और लोगों की मौत हुई है, जिसके बाद देश में मरने वालों की संख्या 591 पहुंच गई है। हालांकि स्वीडन ने यूरोप के अन्य देशों की तरह असाधारण बंद लागू नहीं किया है। ब्रसल्ज में यूरोपीय संघ ने कोविड-19 के प्रभाव से निपटने के लिए कमजोर स्वास्थ्य व्यवस्था वाले गरीब देशों की मदद के लिए और लंबे समय तक आर्थिक सुधार में मदद करने के वास्ते 16.4 अरब डॉलर निवेश करने का ऐलान किया है। दूसरी ओर फ्रांस ने चेताया है कि वह मंदी की ओर बढ़ रहा है जो द्वितीय विश्व युद्ध के बाद सबसे बदतर स्थिति होगी। जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने कहा कि यूरोपीय संघ 1957 में अपनी स्थापना के बाद सबसे बड़ी परीक्षा से गुजर रहा है।



Source NBT

अपनी राय दें